खोजें
होम  ।  संपर्क करें
 

एडमिशन 2015

विशेषताएँ

हेल्पलाइन


निशुल्क नंबर : 1800-180-3668
या
एडमिशन कार्यालय से संपर्क करें : +91-120-4500152,203, 9717797766 (20 Lines)

 
त्वरित तथ्य
 
स्थापनाः 1986
मुख्यालय: नोएडा, उत्तर प्रदेश
कर्मचारीः 200+
ग्राहकः 2,500+
कार्यालय: देखें पूरी सूची
एम.डीण्: राजीव जे लखारा, आईआरएस कार्यकारी श्रेणी
 
एफडीडीआई दृष्टिकोण
 
एफडीडीआई जूता व्यवसाय शिक्षण तकनीकों और इससे जुड़ी वस्तुओं के रुझानों का अन्वेषण करता है।
 
 
कार्यकारी प्रोफाइल

राजीव जे लखारा, आईआरएस
प्रबंध निदेशक

 

श्री राजीव जे लखारा, आईआरएस ने फुटवेयर डिजाइन एण्ड डेवलपमेंट इंस्टिट्यूट (एफडीडीआई) के प्रबंध निदेशक के रूप में 3 फरवरी 2005 को कार्यभार ग्रहण किया। वे भारतीय राजस्व सेवा के 1992 के बैच से हैं। उन्होंने आरईसी, श्रीनगर ( जम्मू एवं कश्मीर) से बी.ई.( सिविल अभियांत्रिकी) किया है। अपने 14 वर्ष के गौरवमयी एवं दीर्घ सेवाकाल के दौरान उन्होंने एफडीडीआई से पहले विभिन्न गुरुतर कार्यभारों को निभाया है जिनमें संयुक्त आयुक्त/ संयुक्त निदेशक (अन्वेषण), आयकर विभाग भी सम्मिलित है।

 

उनके एफडीडीआई के प्रबंध निदेशक का कार्यभार संभालने के पश्चात, उनके सक्षम एवं सक्रिय मार्गदर्शन में संस्थान उत्तरोतर नए क्षितिजों की ओर अग्रसरित है। संस्थान की ओर से संयोजित अन्य पाठ्यक्रमों के साथ ही एफडीडीआई इस अकादमिक सत्र से चार नए पाठ्यक्रमों का संयोजन करने जा रहा है ताकि फुटवियर (जूता) एवं संबद्ध उद्योग की मानव संसाधन संबंधि आवश्यकताओं को पूरा किया जा सके।

 

उनके ग्राहक केन्द्रीत दृष्टिकोण और नेतृत्व ने एफडीडीआई के अन्तरराष्ट्रीय परीक्षण केन्द्र को तेजी से विकसित होने में सक्रिय भूमिका निभाई है जहां सभी तरह की रसायनिक और भौतिक परीक्षण की सुविधाएं मौजूद हैं। आईटीसी विभिन्न तत्वों, अवयवों और उत्पादों के परीक्षण के लिए न केवल जूता और चर्म उद्योग को ही अपनी सेवाएं दे रहा है बल्कि ऑटोमोटिव, प्लास्टिक, कांच और वस्त्र उद्योग भी इसकी सेवाओं का लाभ ले रहे हैं।

 

उनका वृहद दृष्टिकोण एफडीडीआई को तकनीकी क्षमताओं और आधुनिक सुविधाओं के क्षेत्र में एक विश्व स्तरीय संगठन बनाने तक ही सीमित नहीं है बल्कि लघु उद्यमियों और हस्तशिल्पियों को नए उभरते अवसरों का समुचित लाभ ले सकने योग्य बनाने में मददगार बनाने का भी है। इस क्षेत्र में उनके प्रयास रंग लाने लगे हैं और इसके परिणाम दिखाई देने लगे हैं।


 
दीपक मित्तल, आईआरएस
सचिव एवं कार्यकारी निदेशक

 

श्री दीपक मित्तल, सचिव एवं कार्यकारी निदेशक, एफडीडीआई 1998 बैच के भारतीय राजस्व सेवा के आईआरएस अधिकारी हैं। उन्होंने बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के तकनीकी संस्थान से बी. टेक किया है। उन्होंने राष्ट्रीय प्रत्यक्ष कर अकादमी, नागपुर से लेखांकन, करारोपण, प्रशासन व अन्य संबंधित विषयों में गहन प्रशिक्षण प्राप्त किया है।

 

अपने 10 वर्ष के गौरवमयी एवं दीर्घ सेवाकाल के दौरान उन्होंने एफडीडीआई से पहले विभिन्न गुरुतर कार्यभारों को निभाया है जिनमें उप आयुक्त/संयुक्त आयुक्त, आयकर विभाग भी सम्मिलित है। उन्होंने भारत सरकार के वित्त मंत्रालय में अवर सचिव के रूप में भी सेवाएं दी हैं।

 

एफडीडीआई के उद्देश्यों की पूर्ति के लिए श्री मित्तल, एफडीडीआई के सभी कार्यों की निगरानी कर और नीति कार्यान्वयन पर नजर रख अपनी भूमिका को सकारात्मक प्रकार से निभा रहे हैं जिससे एफडीडीआई की वैश्विक स्तर पर अग्रणी फैशन संस्थान और सभी समस्याओं का समाधान प्रस्तुत करने वाले संस्थान के रूप में पहचान बनी है।

 

उनकी सुदृढ़ अकादमिक पृष्टभूमि और विभिन्न क्षेत्रों के वृहद अनुभव से एफडीडीआई को अकादमिक, परियोजना, परामर्श और ग्राहक सेवा के क्षेत्र में नए क्षितिज तक पहुंचने में जबरदस्त सहायता मिल रही है।

 

उनके प्रेरक व्यक्तित्व और दृढ़ निष्ठा ने संस्थान के सर्वांगीण विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। वे वर्तमान पीढ़ी की आन्तरिक उर्जा का सकारात्मक उपयोग करने के लिए दोतरफा शिक्षण अनुभव को मुहैया करवाना सुनिश्चित करते हैं ताकि इस प्रक्रिया में सच्चे पेशेवरों का निर्माण हो सके।

 

वे विशद दृष्टिकोण और नवीनतम विचारों के साथ एफडीडीआई को तकनीकी केन्द्रों का हब बनाने और ऐसा वातावरण उपलब्ध करवाने जिसमें स्थानीय उद्यमियों को आगे आ कर इसकी सेवाओं के माध्यम से वैश्विक फैशन मंच पर और समानता के साथ प्रतियोगिता करने का अवसर मिले और वे राष्ट्रीय गौरव बन सकें के लक्ष्य के लिए कार्य कर रहे हैं।

 
 
हमारे बारे में
अकादमिक
प्रवेश
सेवाएं
अन्य
प्रयोग की शर्तें  ।  गोपनीयता नीति  ।  स्थल नक्शा  ।  संपर्क करें आईई 7 या आईई के उच्च संस्करण में निम्नतम रिजॉल्यूशन 1024 x 768 के साथ सर्वोत्तम अवलोकन।