फुटवियर तकनीकी और प्रबंधन केन्द्र (सीएफटीएम)

 

सीएफटीएम फुटवियर तकनीकी, अभिकल्पन और प्रबंधन के क्षेत्र में स्नातकोत्तर और स्नातक कार्यक्रम प्रस्तावित करता है। यह केन्द्र विश्वभर में उद्योग को निर्माण, गुणवत्ता, उत्पादन मापदंड, फैशन पूर्वानुमान, अभिकल्पन विकास इत्यादि में सेवाएं उपलब्ध करवाता है। जो उद्योग को अन्तरराष्ट्रीय मापदंडों को हासिल करने में सहायक होता है।

 

भविष्य संभावनाएं

फुटवियर अभिकल्पन और तकनीक, विपणन, खुदरा एवं अन्तरराष्ट्रीय व्यवसाय के क्षेत्र में भारत और विदेश दोनों में ही भविष्य की बहुत सारी संभावनाएं हैं। विद्यार्थी प्रारम्भ में प्रंबधन प्रशिक्षु, डिजाइनर, स्टाइलिस्ट, उत्पाद विकासक, गुणवत्ता नियंत्रक, फुटवियर तकनीकविज्ञ, विपणक, विपणन कार्यकारी, उत्पादन निरीक्षक, व्यवसाय विस्तार कार्यकारी, योजना कार्यकारी इत्यादि के रूप में प्रारम्भिक स्तर पर नियोजित हो सकते हैं। फुटवियर उद्योग में उछाल की जबरदस्त संभावनाओँ के कारण तकनीकी, डिजाइनिंग और प्रंबधन क्षेत्र में भविष्य की उज्जवल संभावनाएं हैं। भारतीय निगमित क्षेत्र की कम्पनियां और विदेशी बहुदेशीय कम्पनियों ने इस उद्योग में वर्तमान में मौजूद नियोजन विकल्पों से आगे की विपुल संभावनाओं की उम्मीद जगाई है। जहां तक करियर में बढ़ोतरी और तरक्की के अन्तरसम्बंधों की बात है तो यह पूरी तरह से प्रदर्शन पर आधारित है किसी भी व्यक्ति के अधिकतम उपलब्धि को हासिल करने की कोई सीमा नहीं है।

 

अनुभवजन्य तल्लीनता

एफडीडीआई न केवल उच्च शिक्षा के क्षेत्र में विशिष्ट उपस्थिति रखता है बल्कि औद्योगिक परामर्श, शोध और विकास तथा वर्तमान में उद्योगों में सक्रिय पेशेवरों के प्रशिक्षण जैसे क्षेत्रों में भी इसकी विशिष्ट उपस्थिति है। एफडीडीआई का पाठ्यक्रम, प्रशिक्षण सॉफ्टवेयर और शिक्षण सामग्री को मेलबर्न कॉलेज ऑफ टेक्सटाइल ऑस्ट्रेलिया और साउथफिल्ड कॉलेज, यूके के विशेषज्ञों ने तैयार किया है। प्रबंधन कार्यक्रम के लिए पाठ्यक्रम का निरूपण आईआईएम अहमदाबाद और एफएमएस, नई दिल्ली के वरिष्ठ प्रोफेसरों ने किया है। हमारी वैविध्यता उद्योग की नवीनतम आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए नियमित तौर पर अद्यतनित होने वाले हमारे पाठ्यक्रम औऱ प्रशिक्षण कार्यक्रम में निहित है।

 

Fएफडीडीआई के अन्तरराष्ट्रीय डिजाइन स्टूडियो में आधुनिकतम सुनियोजित कम्प्यूटर केन्द्र है जिसमें नवीनतम सोफ्टवेयर क्रिस्पिन/टेक्सोन, यू.के. शू मास्टर/कलार्क्स, इटली, प्रोकेम, ऑस्ट्रेलिया और हार्डवेयर जैसे रैपिड प्रोटाटाइपिंग मशीन, सीएनसी अन्तिम नमूना मशीन, जूंड कटिंग टेबल इत्यादी हैं।

 

उपलब्ध कार्यक्रम

 

कार्यक्रम विवरण

01. एम.एससी (फुटवेयर टेक्नोलॉजी)

पाठ्यक्रम कोड :02
अवधि: 2 वर्ष (चार सेमेस्टर)
योग्यता: किसी भी वर्ग से स्नातक (अंतिम वर्ष की परीक्षा में बैठने वाले अभ्यर्थी भी आवेदन कर सकते हैंद्य)
आयु: सीमा अधिकतम 28 वर्ष, 31 जुलाई 2011 तक
सीटों की संख्या नोएडा कैम्पसदृ 60, फुरसतगंज कैम्पसदृ 60, चेन्नई कैम्पसदृ 60, कोलकाता कैम्पसदृ 30, रोहतक कैम्पस-30, छिन्दवाड़ा कैम्पसदृ 50 एवम जोधपुर कैम्पस- 30

पाठ्यक्रम का उद्देश्य:

इस कार्यक्रम का उद्देश्य ऐसे टेक्नो कॉमर्शियल पेशेवर को तैयार करना है जो व्यापारिक नीतियों एवम कारपोरेट प्रणाली के ढांचे के अंतर्गत वैश्विक व्यापारिक वातावरण के नवीन परिवर्तनों और गतिविधियों को समझ सकें और उच्च रूप से आधुनिक व्यवस्था में फुटवेयर तथा इससे सम्बंधित अन्य उद्योगों की निरंतर बढ़ती मांगों को पूरा कर सकें|

पाठ्यक्रम संरचना:

यह दो-वर्षीय कार्यक्रम में फुटवेयर मैनुफैक्चरिंग टेक्नोलॉजी एवम मैनेजमेंट के क्षेत्र में सिद्धांत निर्माण पर केंद्रित हैद्य छात्रों को उत्पादन, विपणन, क्रय-विक्रय, प्रबंधन एवम पॉलीमर टेक्नोलॉजी में विशेषज्ञता दी जाती है|

पाठ्यक्रम सामग्री:

प्रोडक्ट नॉलेज, मटीरियल फाउन्डेशन, पैटर्न एंड प्री-प्रोडक्शनद्य इंजीनियरिंग ध्सीएडी, फुटवेयर प्रोडक्शन टेक्नोलॉजी, कटिंग, स्टिचिंग, लास्टिंग, फुटवेयर कंस्ट्रक्शन्स, फिनिशिंग, लैब टेस्टिंग, स्पोर्ट्स शू टेक्नोलॉजी, पर्सनैलिटी डेवेलपमेंट, कन्युनिकेशन, कम्युनिटी डेवलपमेंट, कंप्यूटर साइंस, प्रोडक्शन, प्लानिंग एंड कंट्रोल, मटीरियल मैनेजमेंट, प्रोडक्शन मैनेजमेंट, डोमेस्टिक एंड इंटरनैशनल मार्केटिंग मैनेजमेंट, अकाउंटिंग एंड फाइनेंस, एचआरडी एंड पर्सोनेल मैनेजमेंट, ऑपरेशन मैनेजमेंट, बिजनेस पॉलिसी, सोर्सिंग एंड मर्केंडाइजिंग, सेल्स मैनेजमेंट आदिद्य इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग प्रोजेक्ट इस प्रशिक्षण कार्यक्रम का एक महत्त्वपूर्ण अंग है|

कैरियर संभावनाएं:

यह कार्यक्रम विद्यार्थियों को एक मैनेजमेट ट्रेनी, असिस्टेंट मैनेजर तथा प्रोडक्शन और मार्केटिंग आदि के क्षेत्र में मैनेजर के रूप में अपना कैरियर प्रारम्भ करने हेतु तैयार करता है |

 

उपलब्ध शैक्षिक कार्यकम

 

 

कार्यक्रम विवरण

02. एम.एससी. (क्रिएटिव डिजाइन एवम सीएडीध्सीएएम)

पाठ्यक्रम कोड:03
अवधि: 2 वर्ष (चार सेमेस्टर)
योग्यता किसी भी वर्ग से स्नातक (अंतिम वर्ष की परीक्षा में बैठने वाले अभ्यर्थी भी आवेदन कर सकते हैं|
आयु सीमारूअधिकतम 28 वर्ष, 31 जुलाई 2011 तक

Nसीटों की संख्यारू नोएडा कैम्पसदृ 30, फुरसतगंज कैम्पसदृ 30, चेन्नई कैम्पसदृ 30 और रोहतक कैम्पस-30

पाठ्यक्रम का उद्देश्य:

यह कार्यक्रम उन आधुनिक डिजाइनरों को प्रशिक्षित एवम तैयार करने के लिए है जो प्रोडक्ट विसुअलाइजर्स, कंसेप्ट डेवलपर्स एवम डिजाइनर्स के रूप में चुनौतियों को लेने में समर्थ हैं|

पाठ्यक्रम सामग्री:

मटीरियल एंड प्रोडक्ट इन्फॉर्मेशन, बेसिक्स ऑफ कटिंग, क्लोसिंग, कम्पोनेंट्स, लास्टिंग एंड फिनिशिंग, डिजाइन सिद्धांत:

•  प्रोफेशनल डिजाइन मैनेजमेंट प्रैक्टिस

• डिजाइन कंसेप्ट, एड्वान्स्ड, इलस्ट्रेशन एंड टेक्निकल डिजाइनिंग एप्लीकेशन

•  रेंज बिल्डिंग

•  सीएडी एप्लीकेशंस

•  इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग प्रोजेक्ट इस प्रशिक्षण कार्यक्रम का एक महत्त्वपूर्ण अंग है|

कैरियर संभावनाएं:

इस कार्यक्रम की समाप्ति पर विद्यार्थी डिजाइनर्स, विसुअल मर्केंडाइजर्स, डेवलपर्स, सीएडीध्सीएएम विशेषज्ञ, फैशन भविष्यवक्ता एवम डिजाइन कंसल्टेंट के रूप में प्रोडक्ट इंडस्ट्री में प्रवेश कर सकते हैं|

 

उपलब्ध शैक्षिक कार्यकम

 

कार्यक्रम विवरण

03. बी.एससी. (फुटवेयर टेक्नोलॉजी)

पाठ्यक्रम कोड :07
अवधि :3 वर्ष (छः सेमेस्टर)
योग्यता: 10+2 / इंटरमीडिएट(10+2/ इंटरमीडिएट की परीक्षा में बैठने वाले अभ्यर्थी भी आवेदन कर सकते हैं|)
आयु: सीमा अधिकतम 24 वर्ष, 31 जुलाई 2011 तक

सीटों की संख्या :नोएडा कैम्पस- 60, फुरसतगंज कैम्पस- 60, चेन्नई कैम्पस- 30, कोलकाता कैम्पस- 60, रोहतक कैम्पस-60, छिन्दवाड़ा कैम्पसदृ 50 एवम जोधपुर कैम्पस- 30

पाठ्यक्रम का उद्देश्य :

इस कार्यक्रम का उद्देश्य फुटवेयर प्रोडक्शन, डिजाइन एवम मर्केंडाइजिंग के क्षेत्र में व्यक्तियों की संख्या को बढ़ाना है जिससे कि तेज गति के साथ बढ़ते हुए अंतर्राष्ट्रीय एवम घरेलू व्यापार की मांगों को पूरा किया जा सकेद्य इस कार्यक्रम में नवीनतम टेक्नोलॉजी तथा आधुनिक शैलियों के सम्बन्ध में ज्ञान और कुशलता के गहन अध्ययन पर विशेष बल दिया गया है, जोकि इस उद्योग के अंतर्राष्ट्रीय बाजार में प्रतियोगिता हेतु सर्वोचित हैं|

पाठ्यक्रम संरचना:

इस तीन वर्षीय कार्यक्रम में चार सामान्य सेमेस्टर हैं जिनमें डिजाइन, मैनुफैक्चरिंग टेक्नोलॉजी तथा संपूर्ण व्यक्तित्व के विकास के सम्बन्ध में सिद्धांत एवम कुशलता निर्माण पर विशेष बल दिया गया हैद्य अंतिम वर्ष में विद्यार्थियों को प्रोडक्शन टेक्नोलॉजी या डिजाइनध्मर्केंडाइजिंग में विशेषज्ञता दी जाती हैद्य यह विशेषज्ञता उनके प्रदर्शन और रुझान के आधार पर दी जाती है|

पाठ्यक्रम सामग्री:

प्रोडक्ट नॉलेज, मटीरियल फाउन्डेशन, डिजाइन फाउंडेशन, कटिंग फाउण्डेशन, क्लोजिंग फाउण्डेशन, कंपोनेंट फाउण्डेशनन्लास्तिंग फाउण्डेशन, बेसिक इकोनॉमिक्स, कम्युनिकेशन, गणित और सांख्यिकी, बेसिक साइंस, एर्गोनॉमिक्स, प्रिंसिपल ऑफ मैनेजमेंट, पर्सनैलिटी डेवलपमेंट, कंप्यूटर साइंस, कटिंग, क्लोसिंग, कंपोनेंट, लास्टिंग, फिनिशिंग, पीटर कटिंग एंड डिजाइनिंग, लैब टेस्टिंग, सुपरविजन, कम्युनिटी डेवलपमेंट, मार्केटिंग, एचआरएम, ऑर्गेनाइजेशन बिहेवियर, प्रोजेक्ट मैनेजमेंट, प्रोडक्शन ऑपरेशन मैनेजमेंट, प्रोडक्टिविटी मैनेजमेंट, मर्केंडाइजिंग, पॉलीमर टेक्नोलॉजी, प्रोडक्शन प्लानिंग एंड कंट्रोल, स्पोर्ट्स शू टेक्नोलॉजी, टीक्यूएम, पैटर्न इंजी फॉर वेरियास कंट्रक्शंस एंड रेंज बिल्डिंग, बेसिक क्रिएटिव डिजाइनिंग, प्रोडक्ट कॉस्टिंग, वीजाअल मर्केंडाइजिंग, सीएडीध्सीएएम ऑपरेशन आदि|

कैरियर संभावनाए:

बहुराष्ट्रीय कंपनियों के साथ मिलकर भारतीय कारपोरेट ने इस क्षेत्र में विभिन्न रोमांचक कैरियर अवसरों के मार्ग खोल दिए हैं, जैसे, प्लानिंग, क्वालिटी, प्रोडक्ट डेवलपमेंट, मर्केंडाइजिंग, डिजाइनिंग, रेंज बिल्डिंग, कैटेगरी हेड आदिद्यइस कार्यक्रम में सदैव फुटवेयर एवम संबद्ध उद्योगों के शीर्ष व्यापारिक संस्थानों में 100ः प्लेसमेंट का रिकॉर्ड रहा है|

 

उपलब्ध शैक्षिक कार्यकम