सेंटर फॉर रिटेल मैनेजमेंट (सीआरएम)

 

एफडीडीआई में सेंटर फॉर रिटेल मैनेजमेंट की स्थापना फैशन एवम रिटेल उद्योग में प्रोफेशनलिज्म को प्रोत्साहित करने हेतु तथा रिटेल एवं फैशन उद्योग में प्रक्षिक्षित पेशेवरों की बढ़ती हुई मांग को पूरा करने हेतु की गयी हैद्य बहुक्षेत्रीय कौशल आवश्यकता के फलस्वरूप विद्यार्थी रिटेल मैनेजमेंट, फैशन और मर्केंडाइजिंग के क्षेत्र में विभिन्न कार्यों को करने हेतु कई तकनीकें सीख जाते हैंद्य सीआरएम इस उद्योग को ऐसे प्रशिक्षित पेशेवर प्रदान करने में संलग्न है जो रिटेल और फैशन उद्योग में कर्मियों की गंभीर कमी को पूरा कर सकेंद्य एफडीडीआई स्थित सीआरएम रिटेल मैनेजमेंट, फैशन और मर्केंडाइजिंग के क्षेत्रों में अनेकों परास्नातक एवम स्नातक पाठ्यक्रम प्रस्तुत करता है|

 

कैरियर संभावनाएं

इस क्षेत्र में वॉल मार्ट, रिलायंस, टाटा, पैंटालून, रहेजास, जैसे बड़ी कंपनियों के प्रवेश के कारण भारतीय रिटेल उद्योग एक सुदृढ़ वृद्धि के दौर का गवाह रहा हैद्य बढ़ती हुई प्रतिव्यक्ति आय और आधारभूत सुविधाओं में सुधार, भारतीय अर्थव्यवस्था में उदारीकरण तथा उपभोक्ता मांग के विदेशी ब्रांडों की ओर झुकाव के कारण भारत में रिटेल क्षेत्र में तीव्र गति से विकास हो रहा हैद्यलेकिन भारत में संगठित रिटेलिंग की हिस्सेदारी शर्मनाक रूप से कम है, यह मात्र 3ः है और इसका एक ज्ञात प्रमुख कारण ,विभिन्न स्तरों पर प्रशिक्षित पेशेवर की अत्यधिक कमी और रिटेल मैनेजमेंट में उनका निम्न कार्यकौशल हैद्यआधुनिक रिटेल क्षेत्र में इस देश में अगले छः वर्षों में कई मिलियन प्रत्यक्ष रोजगार उपलब्ध करने का सामर्थ्य है|

 

इस आवश्यकता का अनुभव करते हुए एफडीडीआई रिटेल मैनेजमेंट एवम फैशन मर्केंडाइजिंग में कई कार्यक्रमों का सञ्चालन कर रहा है, जो भविष्य के रिटेल प्रबंधकों के निर्माण की ओर अग्रसर होंगेद्य एफडीडीआई के कार्यक्रम मात्र विद्यार्थियों को उचित कौशल ही नहीं प्रदान करते बल्कि उनमें आवश्यक मान्यताओं का भी गहन बीजारोपण करते हैं |

 

विद्यार्थियों के अनुभव हेतु

 

विद्यार्थी कार्यक्षेत्र सम्बंधित कार्यभार प्रदान किये जाने के माध्यम से रिटेलिंग अनुभव में भाग लेते हैं और रिटेलर्स के साथ काम करते हैंद्य वे एक गहन साक्षात्कार का संचालन करेंगे, रिटेल क्षेत्र के रिटेलरध्मैनेजर से निजी स्तर पर निर्देशन प्राप्त करेंगे और उन्हें विशेष चर्चाओं में उपस्थित होने का अवसर प्राप्त होगा जहाँ उन्हें एक अनुकूलतम रिटेल प्रारूप की वृद्धि हेतु विशिष्ट, सुनियोजित समाधान प्राप्त होंगे|

 

रिटेल मैनेजमेंट के एफडीडीआई सेंटर का लक्ष्य विद्यार्थियों को आधुनिक प्रचलित रिटेल नीतियों एवम नियमों में पारंगत करना हैद्य सर्वश्रेष्ठ उद्योग में सर्वोत्तम की प्राप्ति के लिए विद्यार्थी समग्र विकास की दिशा में कार्य कर रहे हैंद्य यह सेंटर आधारभूत सुविधाओं से युक्त है, यहाँ आधुनिक प्रशिक्षण उपकरण और मल्टीमीडिया उपकरण हैंद्य विद्यार्थियों को विभिन्न ऐसे क्लबों और कमेटियों के द्वारा वातावरण से अवगत कराया जा रहा है जहाँ वे अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन कर सकेंद्य विद्यार्थियों हेतु क्लबों और कमेटियों की शुरुआत हेतु यह केंद्र अतिशीघ्र विसुअल मर्केंडाइजिंग लैब की शुरुआत करने वाला है जहाँ विद्यार्थी विभिन्न उत्पादों को प्रदर्शित एवम डिजाइन कर सकते हैं|

 

उपलब्ध कार्यकर्म

 

कार्यक्रम विवरण

01. एम.एससी.( फैशन मर्केंडाइजिंग एंड रिटेल मैनेजमेंट)

पाठ्यक्रम कोड: 01
अवधि 2 वर्ष (चार सेमेस्टर)
योग्यता: 10+2 / इंटरमीडिएट(10+2/ इंटरमीडिएट की परीक्षा में बैठने वाले अभ्यर्थी भी आवेदन कर सकते हैं|)
आयु सीमा :अधिकतम 24 वर्ष, 31 जुलाई 2011 तक

सीटों की संख्या :नोएडा कैम्पस- 60, फुरसतगंज - 60, चेन्नई कैम्पस-30, कोलकाता कैम्पस - 30 - रोहतक कैम्पस - 60

पाठ्यक्रम का उद्देश्य :

इस कार्यक्रम का उद्देश्य छिपी हुई प्रतिभा के पोषण द्वारा रिटेल उद्योग में प्रशिक्षित रिटेल पेशेवरों की बढ़ती हुई मांग को पूरा करना हैद्य इस कार्यक्रम का लक्ष्य विद्यार्थियों को दक्षता, निर्माण एवम ज्ञान और रिटेल क्षेत्र को व्यपार प्रबंधन के रूप में समझने की दूरदृष्टि से संपन्न करना हैद्यइस पाठ्यक्रम के अभ्यर्थी प्रबंधन और संचार में विशेष कुशलता विकसित करते हैं और रिटेल ऑपरेशन हेतु आवश्यक निपुणताओं को व्यवहार में लाते हैं|

पाठ्यक्रम सामग्री:

प्रोडक्ट नॉलेज (एपेरल्स, गुड्स, फुटवेयर), रिटेल मैनेजमेंट, कंज्यूमर बिहेवियर एनालिसिस, कस्टमर रिलेशनशिप मैनेजमेंट, फाइनेंशियल मैनेजमेंट एंड रिटेल अकाउंटिंग, मार्केटिंग, ऑपरेशन मैनेजमेंट, एचआरएम, ब्रांड मैनेजमेंट, सेल्स मैनेजमेंट, मर्केंडाइजिंग, सप्लाई चेन मैनेजमेंट, एंटरप्रिन्युअरशिप, बेसिक कंप्यूटर, रिटेल सॉफ्टवेयर नॉलेज, पर्सनैलिटी डेवलपमेंट, कम्युनिकेशन आदि|

कैरियर संभावनाएं:

सम्प्पूर्ण विश्व में, बीसवीं शताब्दी में अपने उदय के साथ ही रिटेल क्षेत्र ने अद्वितीय प्रदर्शन किया थाद्य वर्तमान में रिटेल उद्योग विश्व का सबसे बड़ा उद्योग है और शीर्ष की 50 “फॉर्च्यून 500 कंपनियों” में से 25 कम्पनियाँ रिटेल के क्षेत्र में ही सक्रिय हैंद्य भारत में लगभग 12 मिलियन रिटेल स्टोर हैंद्य भारत अंतर्राष्ट्रीय ब्रांडों के गढ़ के रूप में उभर रहा हैद्य उद्योर के स्रोतों के माध्यम से यह भविष्यवाणी की गयी है कि यहाँ रिटेल क्षेत्र में प्रशिक्षित पेशेवरों की भारी मांग होगी क्योंकि भारत टेक ऑफ स्टेज में है और यहाँ संगठित रीटेक की हिस्सेदारी वर्तमान के 3ः प्रतिशत से बढ़कर 2011 तक 10: तक पहुँच जाने की आशा है द्य इस क्षेत्र में कैरियर की शुरुआत करने हेतु विद्यार्थियों के पास अनेकों प्रवेश स्तर के पदों के विकल्प मौजूद हैं, जैसे, स्टॉक कंट्रोल, शॉप फ्लोर, सेल्स, मर्केंडाइजिंग, एडमिनिस्ट्रेशन या पर्चेसिंग अथवा ब्रांड मैनेजमेंट में ट्रेनी मैनेजर के रूप में|

 

उपलब्ध शैक्षिक कार्यकम

 

कार्यक्रम विवरण

02. एम.एससी. (विजुअल मर्केंडाइजिंग एंड कम्युनिकेशन डिजाइन)

पाठ्यक्रम कोड :05
अवधि :2 वर्ष (चार सेम्सेटर)
योग्यता: 10+2 / इंटरमीडिएट(10+2/ इंटरमीडिएट की परीक्षा में बैठने वाले अभ्यर्थी भी आवेदन कर सकते हैं|)
आयु सीमा :अधिकतम 24 वर्ष, 31 जुलाई 2011 तक

सीटों की संख्या नोएडा कैम्पस -30

पाठ्यक्रम का उद्देश्य :

इस पाठ्यक्रम का उद्देश्य विद्यार्थी को विजुअल कम्युनिकेशन, विजुअल मर्केंडाइजिंग के क्षेत्र में और उच्च स्तरीय पेशेवर दृष्टिकोण और डिस्प्ले कम्पोजिशंस के निर्माण हेतु आवश्यक निपुणता प्रदान करना है, डिस्प्ले कम्पोजिशंस उपभोक्ता का निकटतम संचार साधन है और ग्राहक तथा कंपनी के बीच संपर्क का वास्तविक बिंदु हैद्य यह पाठ्यक्रम मार्केटिंग कम्युनिकेशन के विभिन्न रूपों का उनके प्रकार्यों, सैद्धांतिक पृष्ठभूमि, विशेषतः व्यावहारिक अनुप्रयोग, सहित, एक एकीकृत विवरण प्रदान करता है|

इस पाठ्यक्रम की समाप्ति पर विद्यार्थियों विजुअल मर्केंडाइजिंग उद्योग की प्रणालियों से परिचित हो जायेंगे और साथ ही:
– डिस्प्ले के सिद्धांतों और घटकों से भी परिचित हो जायेंगे
– प्रोडक्ट प्रस्तुतीकरण हेतु भाषा की शैली एवम विकास से परिचित हो जायेंगे
– ब्रांड मैनेजमेंट के विकास से परिचित हो जायेंगे
– मार्केटिंग कम्युनिकेशन की विशिष्टों से परिचित हो जायेंगे दृ रिटेल श्रृंखला, औद्योगिक मार्केट, रिटेल संगठनों में, मार्केटिंग कम्युनिकेशन सेवाएं
– प्रौप्स के डिजाइन और निर्माण से परिचित हो जायेंगेद्य

पाठ्यक्रम संरचना:

यह कार्यक्रम एक अद्वितीत दो वर्षीय गहन कार्यक्रम है जो आपको पूर्ण अनुभव के आधार पर लाभ या निर्माण के अवसर देता है जिससे कि आप भविष्य हेतु अपनी कैरियर संबंधी महत्वाकांक्षा प्राप्त कर सकेंद्य यह पाठ्यक्रम विद्यार्थियों को रिटेल उद्योग में विजुअल मर्केंडाइजिंग और विजुअल कम्युनिकेशन के महत्व से परिचित करता हैद्य शुरुआत के स्तर पर विद्यार्थी उन मार्केट कॉन्टेक्स्ट का अध्ययन करेंगे जिसमें विजुअल मर्केंडाइजिंग और विजुअल कम्युनिकेशन कार्य करते हैं और व्यापारिक अनुमानों को व्यापारिक सफलता हेतु प्रयुक्त किया जाता हैद्य इस पाठ्यक्रम में पढ़ाए जाने वाले विषय इसकी एक विशिष्टता हैं, जिनमें निम्न शामिल हैंरू इंटीग्रेटेड मार्केटिंग कम्युनिकेशन, विंडो डिजाइनय इन-स्टोर वीएमय साइनगेज एंड ग्राफिक्सय मैनेक्विन ड्रेसिंगय स्टोर कंसेप्ट्सय पिक्सेल बेस्ड डिजिटल इमेज मैनिपुलेशनय डेवलपिंग रिटेल रिलेशाशिप आदि|


विद्यार्थियों को उचित कार्य प्लेसमेंट के साथ विस्तृत व्यावहारिक कार्यशालाओं के अवसर उपलब्ध कराये जायेंगेद्य विद्यार्थियों को शैक्षिक वर्ष के आखिरी सत्र में एक अंतिम बड़ा प्रोजेक्ट करना आवश्यक होगा

पाठ्यक्रम सामग्री:

विजुअल मर्केंडाइजिंग, रिटेल कम्युनिकेशन, हिस्ट्री एंड थ्योरी औद डिजाइन, फंडामेंटल्स ऑफ रिटेल, ऑटोकैड, बिजनेस स्टडीज, हिस्ट्री ऑफ फैशन, इंटीरियर डिजाइन, कंज्यूमर बिहेवियर, हों-वियर एंड एसेसरीज, रिटेल ब्रांडिंग, स्टोर डिजाइन, फैशन एंड एसेसरीज, फैशन एंड स्टाइलिंग, डिजिटल मॉडलिंग|

कैरियर संभावनाए:

इस कार्यक्रम से परास्नातक छात्र निम्नाकित क्षेत्रों में रोजगार प्राप्त कर सकते हैं

  • रिटेल स्टोर विजुअल मर्केंडाइजिंग या डिस्प्ले डिपार्टमेंट्स
  • विजुअल मर्केंडाइजिंग कंसल्टेंसी एंड सप्लाई कंपनीज
  • रिटेल मर्केंडाइजिंग
  • फोटो-स्टाइलिंग
  • डिस्प्ले प्रोडक्शन कंपनीज
  • एक्जीबीशन डिजाइन
 

उपलब्ध शैक्षिक कार्यकम

 

कार्यक्रम विवरण

बी.एससी. (फैशन मर्केंडाइजिंग एंड रिटेल मैनेजमेंट)

पाठ्यक्रम कोड :08
अवधि:3 वर्ष (6 सेमेस्टर)
योग्यता: 10+2 / इंटरमीडिएट(10+2/ इंटरमीडिएट की परीक्षा में बैठने वाले अभ्यर्थी भी आवेदन कर सकते हैं|)
आयु सीमा: 31 जुलाई 2011 को अधिकतम 24 वर्ष

सीटों की संख्या :नोएडा कैंपस -60, फुर्सतगंज कैंपस -60, कोलकाता कैंपस-30

पाठ्यक्रम का उद्देश्य :

फैशन मर्केंडाइजिंग एंड रिटेल मैनेजमेंट कार्यक्रम की संरचना इस प्रकार की गयी है जिससे कि यह विद्यार्थियों को फौशन मर्केंडाइजिंग और रिटेल उद्योग में प्रवेश स्तर के पदों हेतु तैयार कर सके द्ययह कार्यक्रम छात्रों को फौशन मर्केंडाइजिंग और रिटेल उद्योग में कैरियर बनाने हेतु प्रशिक्षित करने में बहु आयामी शैली अपनाता है, इसके लिए इसमें बिजनेस फंडामेंटल्स के अध्ययनों को फैशन मर्केंडाइजिंग और रिटेल के सिद्धांतों के साथ संयुक्त करके प्रशिक्षण दिया जाता है |

पाठ्यक्रम सामग्री:

प्रिंसिपल ऑफ फैशन डिजाइन, फैशन एडवर्टाइजिंग एंड प्रमोशन, फैशन रिटेलिंग, फैशन इन स्पेशलिटी मार्केट, फैशन फोरकास्टिंग, विजुअल मर्केंडाइजिंग, साइकोलॉजी ऑफ फैशन, इवॉल्यूशन ऑफ फैशन, प्रोडक्ट डेवलपमेंट एंड इनोवेशन, फैशन इकोनॉमिक्स, फैशन डाइनेमिक्स, डिजाइन फंडामेंटल, फैशन रिटेलिंग, बाइंग, रिटेल स्टोर ऑपरेशन, मर्केंडाइज इवॉल्यूशन, ग्लोबल रिटेलिंग, मटीरियल मैनेजमेंट, प्रोडक्ट नॉलेज, (एपेरल, एसेसरीज, फुटवेयर), लॉजिस्टिक्स एंड सप्लाई चेन मैनेजमेंट, कस्टमर रिलेशनशिप मैनेजमेंट, रिटेल ऑपरेशंस मैनेजमेंट, प्रिंसिपल ऑफ मैनेजमेंट, मैनेजेरियल इकोनॉमिक्स, कंप्यूटर सिस्टम एंड एप्लीकेशंस, मैथ्स एंड स्टेटिस्टिक्स, पर्सनैलिटी डेवलपमेंट, ह्यूमन रिसोर्सेज डेवलपमेंट, अकाउंटिंग एंड फाइनेंशियल मैनेजमेंट, स्माल बिजनेस मैनेजमेंट, ऑर्गेनाइजेश्नल बिहेवियर, मार्केटिंग मैनेजमेंट, पर्चेसिंग प्रिंसिपल्स एंड प्रैक्टिस, क्वालिटी मैनेजमेंट, बेसिक्स और इंटर प्रिन्युअरशिपे|

करियर संभावनाए:

इस पाठ्यक्रम की समाप्ति के बाद विद्यार्थी फैशन या रिटेल उद्योग में फैशन मर्केंडाइजर, बायर, शॉप फ्लोर ,क्जीक्युटिव, विजुअल मर्केंडाइजर, रिटेल सेल्स , एक्जीक्युटिव, रिटेल रिप्रेजेंटेटिव, फैशन फोरकास्टर आदि के रूप में जा सकते हैं| विद्यार्थी अपना स्वयं का व्यापार भी शुरू कर सकताध्सकती है|

 

उपलब्ध शैक्षिक कार्यकम